जबलपुर..साली ने प्रेमी के साथ मिलकर रची थी हत्या की साजिश, विजय नगर में प्रापर्टी ब्रोकर उमाशंकर हत्याकांडःलखनऊ से आया था शूटर,

विजय नगर हत्याकांडः साली ने प्रेमी के साथ मिलकर रची थी हत्या की साजिश
लखनऊ से आया था शूटर,
जबलपुर। विजय नगर में प्रापर्टी ब्रोकर उमाशंकर शर्मा की हत्या के मामले में पुलिस ने मृतक की साली ज्योति को गिरफ्तार कर लिया है।पूछताछ में यह बात सामने आई कि उमाशंकर की हत्या की साजिश उसकी ही साली ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर रची थी।इस वारदात को अंजाम देने के लिए लखनऊ से शूटर बुलाया गया था।पुलिस फरार आरोपियों की तलाश में संभावित ठिकानों में दबिश दे रही है।

यह था मामला
गौरतलब है कि पत्नी सुमन शर्मा देर रात बेटे को बाथरुम लेकर गई, जहां से लौटी तो देखा कि पति उमाशंकर के कमरे के बाहर दो बैग रखे है. जिसपर वह कमरे में पहुंच गई और पति को उठाया. इस बीच ज्योति भी साजिश के तहत कमरे में आ गई और लाइट जला दी. कमरे में रोशनी होते ही पत्नी सुमन चीख पड़ी, उन्होने देखा कि उमाशंकर खून से लथपथ मृत हालत में पड़े है।

साली के साथ बना लिए थे अवैध संबंध
विजय नगर में जॉय स्कूल के पीछे रहने वाले उमाशंकर शर्मा एक कीटनाशक कंपनी में एरिया मैनेजर होने के साथ साथ प्रापर्टी ब्रोकर का काम भी करता रहा. उमाशंकर के घर में उनकी पत्नी सुमन उम्र 38 वर्ष, बेटा सौरभ 14 वर्ष, कान्हा 3 वर्ष, बेटी सौम्या 7 वर्ष व साली ज्योति भी आकर रहने लगी. इस बीच उमाशंकर के ज्योति से संबंध हो गए, उमाशंकर के ज्योति से संबंध होने की जानकारी जब ज्योति के लखनऊ में रहने वाले व्यॉयफे्रंड अंकित को लगी तो वह आगबबूला हो गया, उसने ज्योति से इस बारे में चर्चा की और उमाशंकर की हत्या करने साजिश रच डाली. साजिश के चलते व्यॉयफे्रंड ने लखनऊ से अपने दोस्त गोलू को यादव को भेजा जो शूटर भी है।

दिन में घर दिखाया और रात को बुलाया
घटना के दिन 13 अगस्त शूटर गोलू टे्रन से जबलपुर आ गया. जिसने ज्योति से संपर्क किया, ज्योति ने शूटर को दिन में घर दिखाया और रात को बुला लिया. देर रात शूटर ने उमाशंकर के मुंह पर तकिया रखकर सिर पर दो गोली मारी, जिससे उमाशंकर की मौत हो गई. हत्या करने के बाद शूटर रेलवे स्टेशन पहुंचा और ट्रेन से भाग निकला. हत्या की घटना की खबर मिलते ही पुलिस अधिकारी पहुंच गए, जिन्होने ज्योति से विभिन्न बिन्दुओं पर पूछताछ की, जिसपर कुछ जबाव ज्योति ने ऐसे दिए कि पुलिस को शक ऊहो गया और पुलिस ने ज्योति से सख्ती से पूछताछ की तो उसने व्यॉयफे्रंड के साथ मिलकर साजिश रचना स्वीकार लिया. हालांकि पुलिस अधिकारी इस संबंध में कुछ भी कहने के लिए तैयार नहीं है.

छत पर बैठा था शूटर
पुलिस को जांच में यह भी पता चला कि शूटर गोलू रेलवे स्टेशन से सीधे दमोहनाका पहुंच गया, जहां से उसने ज्योति को मोबाइल लगाया. जिसपर ज्योति उसे लेने के लिए दमोहनाका पहुंच गई. जहां से उसे लेकर विजय नगर अपने घर पहुंच गई।शूटर को ज्योति ने रात को अपने घर की छत पर भेज दिया था, शूटर छत पर बैठा ज्योति के इशारे का इंतजार करता रहा. देर रात 3 बजे के लगभग ज्योति ने जैसे ही इशारा किया. इशारा मिलते ही शूटर नीचे आया और उमाशंकर के मुंह पर तकिया रखकर पिस्टल निकालकर गोली मार दी। हत्या के बाद शूटर दूर चला गया और ज्योति यह कहते हुए स्कूटी से भागी कि पुलिस को जानकारी देकर आते है, ज्योति ने पहले शूटर को छोड़ा, इसके बाद पुलिस को जानकारी. घटना की खबर मिलते ही पुलिस पहुंच गई, जहां पर उमाशंकर खून से लथपथ मृत पड़े रहे।
……………………………….

Related posts