जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय बना लूट का खजाना

सीधी – जिले में जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में 2 दशक से कुंडली मार कर बैठे लिपिकों के ऊपर शासन का नियम बेअसर साबित हो रहा है।शासन के लिपिक संवर्ग के ट्रांसफर नीति के तहत जिला व संभागीय मुख्यालय में पदस्थ लिपिक पदस्थापना से तीन वर्षो से ज्यादा नही रह सकते है।लेकिन सीधी जिले में  पदस्थ लिपिक रविशंकर पांडेय 2013,अरुण प्रताप सिंह1999, दयानंद शुक्ल 1998, लालबहादुर सिंह 2011, अखिलेस्वर पाडे 2007, शिवसंकर द्विवेदी 2010,पंकज मिश्र 2011,राजकुमार शर्मा 1989 से हैं,आज तक कोई जिला शिक्षा अधिकारी ट्रांसफर नहीं करा सके है।जो भी जिला शिक्षा अधिकारी आता है इन लिपिकों की मलाई मे डुबकी लगाकर शासन के आदेश व नियम कानून को रद्दी टोकरी में डाल देता है। ज्ञात हो कि पिछले दिनों जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में वर्षो से जमे लिपिक हनुमान प्रसाद शुक्ल को लोकायुक्त रीवा द्वारा रंगे हाथ निज निवास से शिक्षक को निलंबन उपरांत बहाली करने हेतु घूस लेते हुए पकड़ा गया था

Related posts